Maa Mera Haath Pakadti Hai Lyrics | Sonu Nigam

5/5 - (2 votes)

Hindi song lyrics for Maa Mera Haath Pakadti Hai by Sonu Nigam. Shubham Saurabh composed the music for this song, which was penned by Prabudha Saurabh. includes Sonu Nigam.

📌 Song TitleMaa Mera Haath Pakadti Hai
🎤 SingerSonu Nigam
✍️ LyricsPrabudha Saurabh
🎼 MusicShubham Saurabh
🏷️ Music LabelHitz Music

View Post

जब गम की बदली चढ़ती है
जब दुःख की आंधी चलती है
जब सब दरवाजे बंध मिले
अपनों की कमी जब खलती है

तब माँ मेरा हाथ पकड़ती है
मेरी माँ मेरा हाथ पकड़ती है

तब माँ मेरा हाथ पकड़ती है
मेरी माँ मेरा हाथ पकड़ती है

बस माँ का सहारा मिल जाए
एक माँ का इशारा मिल जाए

जब माँ के नाम का तिनका हो
डूबे को किनारा मिल जाए

जब घोर अंधेरो में मन की
आखों से आह निकलती है

हर बुरी नजर की परछाई
माँई की कृपा से टलती है

तब माँ मेरा हाथ पकड़ती है
मेरी माँ मेरा हाथ पकड़ती है

जीवन का हर पल उसका है
सब अंदर बाहर उसका है

सब सौप दिया है माँता को
मेरा जो है सब उसका है

जब कभी कभी इन कष्टों में
उम्मीद की बर्फ पिघलती है

जब वक्त बुरा आ जाने पर
ये दुनिया रंग बदलती है

तब माँ मेरा हाथ पकड़ती है
मेरी माँ मेरा हाथ पकड़ती है

तब माँ मेरा हाथ पकड़ती है
मेरी माँ मेरा हाथ पकड़ती है

माँ ध्यान में तू
माँ मेरे ज्ञान में तू
माँ मेरे मान में तू
मेरे अभिमान में तू

मन के हर नाम में तू
कृष्ण में राम में तू
तीर्थ में धाम में तू
सुबह में शाम में तू

जय माँ जय माँ कृपा करो माँ
जय माँ जय माँ दर्शन दो माँ
जय माँ जय माँ पाप हरो माँ

जय माँ जय माँ जय माँ

Jab gam ki badli chadhti hai
Jab duhkh kee andhi chalti hai
Jab sab daravaaje bandh mile
Apano ki kami jab khalti hai

Tab maa mera haath pakadti hai
Meri maa mera haath pakadti hai

Tab maa mera haath pakadti hai
Meri maa mera haath pakadti hai

Bas maan ka sahara mil jaye
Ek maan ka ishaara mil jaye

Jab maan ke naam ka tinaka ho
Dube ko kinaare mil jaie

Jab ghor andhairon mein man ki
Aakhon se aah niklti hai

Har buree najar kee padachhai
Maai ki kripa se talatee hai

Tab maa mera haath pakadti hai
Meri maa mera haath pakadti hai

Jeevan ka har pal usaka hai
Sab ander baahar usake hai

Sab saup diya hai maata ko
Mera jo hai sab usaka hai

Jab kabhi kabhi in kashto me
Ummeed ki barf pighlti hai

Jab vkt bura aa jane par
Ye duniya rang badlti hai

Tab maa mera haath pakadti hai
Meri maa mera haath pakadti hai

Tab maa mera haath pakadti hai
Meri maa mera haath pakadti hai

Maa dhyaan mein tu
Maa mere gyaan mein tu
Maa mere man mein tu
Mere abhimaan mein tu

Man ke har naam mein tu
Krishn mein raam mein tu
Teerth mein dhaam mein tu
Subah me shaam me tu

Jai maa jai maa kripa karo maa
Jai maa jai maa darshan do maa
Jai maa jai maa paap haro maa

Jai maa jai maa jai maa

Leave a Comment